संन्यास – वीरू भारत लौटकर करेंगे फैसला

दुबई (स्टिंग आप्रेशन ब्यूरो)-टीम इंडिया की ओर से एक मात्र तिहरा शतक लगाने वाले और दुनिया के धाकड़ बल्लेबाजों में शुमार वीरेंद्र सहवाग के क्रिकेट से संन्यास लेने की खबर आने के बाद कुछ देर बाद ही उनका खंडन भी आ गया। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है। वे इस संबंध में भारत आकर ही कोई फैसला लेंगे।
दरअसल, मीडिया रिपोर्ट्स में वीरेंद्र सहवाग के रिटायरमेंट की खबर आई थी जिसमें यह कहा गया था कि यह भारतीय बल्लेबाज भारत आते ही संन्यास की घोषणा कर सकते हैं।
सहवाग के संन्यास की खबर आते ही जहां एक तरफ ट्वीटर पर #ThankYouSehwag का ट्रेंड शुरू हो गया वहीं कुछ देर बाद इस खबर का इस दिग्गज बल्लेबाज की ओर से खंडन भी आ गया। इस सबके बीच सहवाग के लिए मंगलवार का दिन बहुत ही खास है। वीरेंद्र सहवाग आज अपना 37वां जन्मदिन मना रहे हैं।
एक अंग्रेजी अखबार से बातचीत में हरियाणा क्रिकेट एसोशिएशन के सचिव अनिरुद्ध चौधरी ने बताया कि मैं आपको इस बात से अवगत करा दूं कि वह संन्यास नहीं ले रहे हैं। सहवाग ने हरिणाया की ओर से इस घरेलू सत्र में खेलने और मेंटर के तौर पर टीम से जुड़े रहने का कांट्रैक्ट किया है। अगर वे संन्यास का फैसला करते है तो हरियाणा क्रिकेट एसोसिएशन और बीसीसीआई को अपने फैसले से अवगत कराएंगे।
क्या था मामलाः
सहवाग यूएई में मास्टर्स चैम्पियंस लीग की लांचिग के समय वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा, दक्षिण अफ्रीका के ग्रीम स्मिथ और इंग्लैंड के अजहर महमूद के साथ मौजूद थे। उनसे जब यह पूछा गया कि रिटायर्ड क्रिकेटरों की लीग में वह कैसे खेल सकते हैं तो उन्होंने कहा “यदि मैं संन्यास नहीं लूंगा तो मैं कैसे इस लीग में खेलूंगा। मैं भारत वापस जाऊंगा और अपने संन्यास की घोषणा करूंगा।”
दरअसल, इस लीग से जुडऩे की एक शर्त है कि खिलाड़ी को सभी तरह के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लेना चाहिए। संयुक्त अरब अमीरात में होने वाली यह लीग सिर्फ रिटायर्ड खिलाड़ियों के लिए है। लीग को अगले वर्ष फरवरी में खेला जाना है। लेकिन कुछ देर बाद ही उनका संन्यास लेने की खबर पर खंडन आ गया।
क्रिकेट करियरः
अप्रैल 1999 में मोहाली में पाकिस्तान के खिलाफ अपना एकदिवसीय और नवंबर 2001 में ब्लूमफोंटेन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना टेस्ट कैरियर शुरू किया था। मौजूदा रणजी सत्र में दिल्ली छोड़कर हरियाणा की तरफ से खेल रहे सहवाग ने 104 टेस्टों में 49.34 के औसत से 8586 रन बनाए जिसमें 23 शतक और 32 अर्धशतक शामिल हैं। उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 319 और 309 रन की दो तिहरी शतकीय पारियां खेली।
उन्होंने 319 रन मार्च 2008 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चेन्नई में और 309 रन मार्च 2004 में पाकिस्तान के खिलाफ मुल्तान में बनाये थे। सर डान ब्रैडमैन, ब्रायन लारा के बाद वीरेंद्र सहवाग वर्ल्ड के तीसरे क्रिकेटर है, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में दो ट्रिपल सेंचुरी जड़ी है। वहीं कैरेबियाई बल्लेबाज क्रिस गेल ऐसा करानामा करने वाले चौथे क्रिकेटर हैं।
वीरू के नाम से मशहूर सहवाग दुनिया में एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जिनके नाम टेस्ट में तिहरा शतक और वनडे में दोहरा शतक दर्ज है। वर्ष 2011 की विश्व कप विजेता टीम के सदस्य रहे सहवाग ने एकदिवसीय मैचों में 219 रन का शानदार स्कोर दिसंबर 2011 में इंदौर में वेस्टइंडीज के खिलाफ बनाया था।
वनडे में उनके नाम 251 मैचों में 35.05 के औसत से 8273 रन दर्ज हैं जिसमें 15 शतक और 38 अर्धशतक शामिल हैं।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com