पद्मावत विवाद: UP में रिलीज होगी फिल्म, योगी आदित्यनाथ ने किया ऐलान

50 padmavati
नई दिल्ली (Sting Operation)- राजस्थान, गुजरात और मध्यप्रदेश में बैन होने के बाद ‘पद्मावत’ को इस राज्य में हरी झंडी मिल गई है। जी हां, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ये साफ कह दिया है कि यूपी में तो फिल्म रिलीज होगी। सीएम योगी का कहना है कि अब ऐसा आखिर क्या है कि फिल्म की रिलीज में अड़ंगा लगाया जाए।
गुजरात, राजस्थान और एमपी में हुई बैन…
बीजेपी शासित कुछ प्रदेशों में पहले ही इस फिल्म को बैन करने की बात सामने आ रही है, लेकिन यूपी में ठीक इसका उल्टा है। उत्तर प्रदेश को संजय लीला भंसाली की इस फिल्म से कोई एतराज नहीं है। राजनीतिक पंडितों का कहना है कि चूंकि यूपी में विधानसभा चुनाव हो चुके हैं और राजस्थान, मध्यप्रदेश में होने वाले हैं तो राजपूत कार्ड का फायदा यहीं मिलेगा।
दूसरी तरफ राजस्थान में भी बीजेपी ने फिल्म ना दिखाने का ही दावा किया गया है। चाहे गुजरात के सीएम विजय रुपाणी हों, मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज चौहान हों या फिर राजस्थान में वसुंदरा राजे सबका कहना वही है जिस पर करणी सेना अड़ी है यानी फिल्म में राजपूत इतिहास से छेड़छाड़ और प्रदेश भर में इसका विरोध।
बता दें कि ‘पद्मावती’ को अब ‘पद्मावत’ के नाम से 25 जनवरी को रिलीज किया जाना है। लेकिन फिल्म को लेकर अभी भी काफी विवाद हो रहा है।
श्री राजपूत करणी सेना के कार्यकतार्ओं ने संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ की रिलीज को हरी झंडी दिखाए जाने के विरोध में केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के कार्यालय के बाहर शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन किया। पुलिस कुछ कार्यकतार्ओं को अपने साथ ले गई।
सुखदेव सिंह गोगामेरी के नेतृत्व में राजपूत संगठन के सदस्यों ने विवादित फिल्म की रिलीज की अनुमति देने पर सीबीएफसी कायार्लय के बाहर एकत्र होकर अपनी नाराजगी जाहिर की।
करणी सेना के एक सदस्य जीवन सिंह सोलंकी ने कहा, “हम किसी भी स्थिति में देश में फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे। कुछ राज्य पहले से ही हम से सहमत हैं और इसलिए फिल्म को प्रतिबंधित कर चुके हैं। हम पूरे देश में फिल्म को प्रतिबंधित होते देखना चाहते हैं।”
सोलंकी ने कहा, “हम यही नहीं रुकेंगे, बल्कि हम हमारे प्रधानमंत्री से फिल्म पर प्रतिबंध लगाने का आग्रह करने जा रहे हैं क्योंकि फिल्म राजपूत समुदाय की विरासत और संस्कृति को बबार्द कर देगी। फिल्मकार ने राजपूतों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है।”
यह पूछे जाने पर कि क्या वह संदेह को दूर करने के लिए फिल्म को सिनेमाघरों में रिलीज से पहले देखना चाहेंगे तो उन्होंने कहा, “फिल्म में हमारे समुदाय को पूरी तरह से गलत दिखाया गया है। हम इसफिल्म को नहीं देखना चाहते। इस पर प्रतिबंध लगना चाहिए।”
करणी सेना के प्रवक्ता वीरेंद्र सिंह ने शुक्रवार को आईएएनएस को बताया कि संगठन के सदस्य और अन्य राजपूत संगठनों के सदस्य भी यहां विरोध करने के लिए एकत्र हुए।
सीबीएफसी ने पांच संशोधनों और फिल्म का नाम ‘पद्मावती’ से बदलकर ‘पद्मावत’ कर देने पर इसकी रिलीज को मंजूरी दी है। यह भारत में 25 जनवरी को रिलीज हो रही है, हालांकि यह राजस्थान में नहीं रिलीज होगी।
सीबीएफसी ने तीन सदस्यीय सलाहकार पैनल से परामर्श के बाद फिल्म को यू/ए प्रमाणपत्र के साथ हरी झंडी दिखाई है।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com