‘मन की बात’ में बोले पीएम मोदी- ‘नारी शक्ति हमेशा प्रेरित करती आयी है’

65 pm-modi
नई दिल्ली (Sting Operation)- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में कहा कि दो दिन पूर्व ही हमने गणतन्त्र पर्व को बहुत ही उत्साह के साथ मनाया। इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि 10 देशों के मुखिया इस समारोह में उपस्थित रहे। उन्होंने कहा कि देश में हर क्षेत्र में महिलाएं आगे बढ़ रही है, गौरव बढ़ा रही है।
नारी शक्ति एकता सूत्र में बांधती है
अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावल ने नारी शक्ति को नई ऊंचाई दी। नारी शक्ति देश, समाज को हमेशा एकता के सूत्र में बांधती है। नारी शक्ति हमेशा प्रेरित करती आयी है। पुराणों में कहा गया है कि एक बेटी दस बेटे के बराबर है।
प्रेरित करती है नारी शक्ति
पीएम ने कहा कि आज हम बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ की बात करते हैं लेकिन सदियों पहले हमारे शास्त्रों में, स्कन्द-पुराण में कहा गया है। चाहे वैदिक काल की विदुषियां लोपामुद्रा, गार्गी, मैत्रेयी की विद्वता हो या अक्का महादेवी और मीराबाई का ज्ञान और भक्ति हो, चाहे अहिल्याबाई होलकर की शासन व्यवस्था हो या रानी लक्ष्मीबाई की वीरता, नारी शक्ति हमेशा हमें प्रेरित करती आयी है।
महिलाओं ने तोड़ा रुढ़वादी बंधन
पीएम ने कहा कि सशक्तिकरण आत्मनिर्भरता का ही एक रूप है। हर क्षेत्र में ‘फर्स्ट लेडीज’ हमारी नारी-शक्तियों ने समाज की रूढ़िवादिता को तोड़ते हुए असाधारण उपलब्धियाँ हासिल की, एक कीर्तिमान स्थापित किया। तीन बहादुर महिलाएँ भावना कंठ, मोहना सिंह और अवनी चतुर्वेदी फाइटर्स पायलट्स बनी हैं और सुखोई 30 में प्रशिक्षण ले रही हैं।
मन की बात में पीएम ने कहा- ‘किसी भी जीवन-समाज की पहचान होती है उसका सेल्फ करेक्टिंग मैकेनिज्म। हम बार-बार सुनते आये हैं कि लोग कहते हैं कि कुछ बात है ऐसी कि हस्ती मिटती नहीं हमारी। वो बात क्या है, वो बात है लचीलापन, ट्रांसफॉर्मेशन।’
मुंबई का मटुंगा स्टेशन जहां सिर्फ महिला कर्मचारी
मोदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ का दंतेवाड़ा इलाक़ा, जो माओवाद-प्रभावित क्षेत्र है। हिंसा, अत्याचार, बम, बन्दूक, पिस्तौल- माओवादियों ने इसी का एक भयानक वातावरण पैदा किया हुआ है। ऐसे ख़तरनाक इलाक़े में आदिवासी महिलाएं ई-रिक्शा चला कर आत्मनिर्भर बन रही हैं। मुंबई का माटुंगा स्टेशन भारत का ऐसा पहला स्टेशन है जहाँ सारी महिला कर्मचारी हैं।
पीएम मोदी ने ‘मन की बात’ में आगे कहा- ‘आपने नाम सुना होगा मध्य प्रदेश के भज्जूश्याम के बारे में, वे जीवन यापन के लिए सामान्य नौकरी करते थे लेकिन उनको पारम्परिक आदिवासी पेंटिंग बनाने का शौक था। आज इसी शौक की वजह से इनका भारत ही नहीं, पूरे विश्व में सम्मान है।’
उन्होंने कहा कि ‘मिशन क्लीन मोरना’ के इस नेक कार्य में अकोला के छह हज़ार से अधिक नागरिकों, सौ से अधिक एनजीओ, कॉलेज, स्टूडेंट्स, बच्चे, बुजुर्ग, माताएं-बहनें हर किसी ने इसमें भाग लिया। मोदी ने कहा कि मुझे पता चला कि अकोला के नागरिकों ने ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के तहत मोरना नदी को साफ़ करने के लिए स्वच्छता अभियान का आयोजन किया था।
हेल्थ केयर को अफॉर्डेबल बनाना है उद्देश्य
पीएम मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री जन औषधि योजना के पीछे उद्देश्य है- हेल्थ केयर को अफॉर्डेबल बनाना। जन-औषधि केन्द्रों पर मिलने वाली दवाएं बाज़ार में बिकने वाली दवाइयों से लगभग 50-90% तक सस्ती हैं। सस्ती दवाइयां प्रधानमंत्री भारतीय जन-औषधि केन्द्रों, अस्पतालों के ‘अमृत स्टोर्स’ पर उपलब्ध हैं।
पीएम ने मन की बात मे कहा कि पश्चिम बंगाल की 75 वर्षीय सुभासिनी मिस्त्री को भी पुरस्कार के लिए चुना गया। सुभासिनीमिस्त्री एक ऐसी महिला हैं, जिन्होंने अस्पताल बनाने के लिए दूसरों के घरों में बर्तन मांजे, सब्जी बेची।
2018 में रेडियो पर उनका यह पहला मन की बात का कार्यक्रम है। रेडियो पर अपने मासिक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री देशवासियों से अपने विचार किए। आज इस कार्यक्रम की 40वीं कड़ी थी। गौरतलब है ‘मन की बात’ आकाशवाणी पर प्रसारित किया जाने वाला एक कार्यक्रम है जिसके जरिए भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारत के नागरिकों को संबोधित करते हैं। इस कार्यक्रम का पहला प्रसारण 3 अक्तूबर 2014 को किया गया था।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com