सेना पर FIR: स्वामी नाराज, बोले- रक्षा मंत्री दें जवाब, नहीं तो संसद में उठाऊंगा मामला

5 swami
नई दिल्ली (Sting Operation)- जम्मू-कश्मीर सेना के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले में भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने आक्रामक रुख अख्तियाकर किया है। उन्होंने कहा है कि अगर इस मामले का जवाब 2 फरवरी तक नहीं आया तो वे इस मुद्दे को संसद में उठाएंगे।
दरअसल जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में गोलीबारी में दो नागरिकों की मौत हो गई, जिसके लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सेना के मेजर के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया है। हालांकि सेना सू्त्रों ने दावा किया है कि वह घटना स्थल पर मौजूद नहीं थे। उन्होंने बताया कि सेना ने घटना की जांच शुरू क दी है।
स्वामी नाराज
भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की सीएम ने सदन में कहा कि उन्होंने शोपियां में सेना की फायरिंग का मामला रक्षा मंत्री की जानकारी में लाया है, अगर कोई अपराध हुआ है तो उस पर तुरंत कार्रवाई की जायेगी।
रक्षा मंत्री से मांगा जवाब
स्वामी ने यह भी कहा कि इस बात पर आश्चर्य है कि रक्षा मंत्री ने अब तक इस मामले पर कोई जवाब नहीं दिया है। क्या उनकी चुप्पी को स्वीकृति समझा जाए। स्वामी ने कहा कि यह पार्टी की नीतियों, भावनाओं और देशभक्ति के खिलाफ है और अगर इस बात का जवाब 2 फरवरी तक नहीं मिलता है तो वह इस मुद्दे को सदन में उठाएंगे।
स्वामी ने साधा प्रदेश सरकार पर निशाना
मंगलवार को सुब्रमण्यम स्वामी ने जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि यह क्या बेहूदगी है। इस सरकार को बर्खास्त करना चाहिए। स्वामी ने कहा था कि महबूबा को कहो कि ये FIR वापस ली जाये नहीं तो उनकी सरकार बर्खास्त कर दी जायेगी। हम ऐसी सरकार क्यों चला रहे हैं? मैं अब तक इस बात को समझ नहीं पा रहा हूं। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर के शोपियां में 2 नागरिकों की मौत होने से सेना के खिलाफ FIR दर्ज की गई है।
सेना का दावा
सेना सूत्रों की ओर से दावा किया गया है कि कि जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में गोलीबारी में दो नागरिकों की मौत को लेकर दर्ज प्राथमिकी में सेना के जिस मेजर का जिक्र किया गया है, वह घटना स्थल पर मौजूद नहीं थे। उन्होंने बताया कि सेना ने घटना की जांच शुरू की है।
200 मीटर दूर थे मेजर
सूत्र ने जानकारी दी कि मेजर उस समय घटनास्थल पर मौजूद नहीं थे। वह वहां से करीब 200 मीटर दूर थे और वह घटनास्थल के आसपास थे। शोपियां में शनिवार को पथराव कर रही भीड़ पर सैनिकों की गोलीबारी में दो नागरिकों की मौत के बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं।
पुलिस ने रविवार को सेना की गढ़वाल इकाई के 10 कर्मियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं 302, 307 के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी। प्राथमिकी में मेजर का भी नाम लिया गया है जो घटना के समय सैनिकों का नेतृत्व कर रहे थे। जम्मू कश्मीर पुलिस प्रमुख एस पी वैद ने कल कहा था कि शोपियां घटना में प्राथमिकी दर्ज कराना जांच की सिर्फ शुरूआत है और सेना के पक्ष को भी ध्यान में रखा जाएगा।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com