हनीट्रैप: पहले भी शिकार हुए कई लोग, कहीं ISI की जद में आप तो नहीं!

4 girl
नई दिल्ली – हनीट्रैप में फंसाकर उससे गोपनीय चीजें निकलवाना यह कोई नयी बात नहीं है। अक्सर दुश्मन देशों की तरफ से ऐसा किया जता है। इसमें किसी हसीन का सहारा लेकर पहले सामने वाले शख्स को जाल में फंसया जाता है और उसके बाद दलदल में फंसाकर उससे वह चीजें निकलवायी जाती है जो वह चाहता है।
इसका सबसे आसान प्लेटफॉर्म सोशल मीडिया बन गया है जिसके जरिए पैसों से लेकर खूबसूरती का लालच दें उसे हनीट्रैप में फंसाया जाता है। आइये बताते हैं कब कब कौन हुआ है हनीट्रैप का शिकार।
हनीट्रैप का शिकार वायुसेना का ग्रुप कैप्टन
सबसे ताज़ा मामला है भारतीय वायुसेना का ग्रुप कैप्टन अरुण मारहवा है। उसके ऊपर पाक महिला के हनीट्रैप में फंसकर आईएसआई को बेहद गोपनीय दस्तावेज साझा करने का सनसनीखेज संगीन आरोप लगा है। मारवाह को वायुसेना मुख्यालय में वायुसेना के इंटेलिंस की तरफ से पूछताछ करने के बाद दिल्ली पुलिस को सौंप दिया गया है।
पठानकोट एयरबेस में आया था सामने
पठानकोट एयरफोर्स स्टेशन में तैनात एयरमेन सुनील कुमार को एक महिला को गोपनीय जानकारियां ई-मेल करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। सुनील कुमार पैसों केलिए मीना रैना नाम के एक अकाउंट पर जानकारियां भेज रहा था। पठानकोट एयरबेस की साइबर टीम सुनील कुमार पर लगातार नज़र रखे हुए थी।
सूबेदार भी फंसा था जाल में
सिकंदराबाद में तैनात भारतीय सेना के जवान नायब सूबेदार पाटन कुमार पोद्दार पाकिस्तान की एक महिला जासूस के जाल में फंस गया और लंबे समय तक सेना के अहम राज बताता रहा. जानकारियों के एवज में महिला पाटन कुमार को पैसों के अलावा अपनी न्यूड तस्वीरें और वीडियो भेज रही थी। साथ ही पाटन कुमार को लंदन घुमाने का वायदा भी किया गया था।
मेरठ में भी शिकंजे में आया जासूस
पाकिस्तान जाकर करीब सोलह बार आईएसआई से ट्रेनिंग ले चुका आसिफ बारहवीं पास है और बेहद शातिर और कम्प्यूटर का मास्टर है। सेना के कई जवानों का ब्यौरा और उनके मूवमेंट की जानकारियां आसिफ से मिली थीं। आसिफ अपनी शादी से काफी पहले से आईएसआई के लिए काम कर रहा था। उसके एक बेटा और एक बेटी भी है। मेरठ के सुभाष बाजार की स्प्रिंग फैक्ट्री में सुपरवाइजर की नौकरी करने वाले आसिफ के कब्ज़े से सेना के दस्तावेजों में गोपनीय और संवदेनशील सूचनाएं हासिल हुई हैं। यानी आईएसआई अपने हनी ट्रैप में कई जवानों को फंसाने में जुटी है।
जाहिर है हनीट्रैप के अब तक जितने भी मामले अपने देश में सामने आये हैं उनमें मकसद वहीं हसीनाओं या फिर पैसों का इस्तेमाल कर सामनेवालों से गोपनीय जानकारियों हासिल करना था।
सूबेदार हुआ हनीट्रैप का शिकार
पाटन कुमार पोद्दार भारतीय सेना में सूबेदार के पद पर कार्यरत थे। चालीव वर्षीय पाटन कुमार की पोस्टिंग आंध्रप्रदेश के सिंकदराबाद छावनी की 151 एमसी/एमएफ डिटैचमेंट में थी। सिकंदराबाद में रहते हुए फेसबुक में अनुष्का अग्रवाल नाम की एक लड़की से उसकी दोस्ती हुई। लड़की से बातचीत के दौरान दोनों ने अपनी निजी जानकारियां साझा करना शुरू की। उस पाकिस्तानी जासूस ने अपना संबंध उत्तर प्रदेश के झांसी से बताया था। उसने यह भी बताया कि उसके पिता इंडियन एयर फोर्स के रिटायर्ड कमांडर हैं और फिलहाल झांसी में संयुक्त राष्ट्र की एक एनजीओ चलाते हैं, जिसमें वह भी अपने पिता का सहयोग करती है।
कुछ समय बाद अनुष्का ने सूबेदार को बताया कि वह उसे पसंद करती है और उससे मोहब्बत करने लगी है। इसी दौरान भारतीय सेना का ऑनलाइन सर्वे करने के एवज में 10 हज़ार रुपये देने का वादा भी किया। फिर पोद्दार ने महिला के इशारे पर एक ऑनलाइन फार्म भरा, जिसमें पेशा और निजी ब्योरे जैसी जानकारियां दीं। धीरे-धीरे सर्वे के नाम पर वह उस लड़की को सिकंदराबाद छावनी की सेना से जुड़े राज और जानकारियां उपलब्ध कराता रहा और वह उसके खाते में इसके एवज में पैसे जमा करती रही। जांच के दौरान सेना पुलिस ने भारतीय सेना से जुड़ी बहुत सी संदिग्ध जानकारियां पोद्दार के कंप्यूटर से बरामद की।
क्यों होता हनीट्रैप का खेल
दुनिया के शक्तिशाली देशों में शुमार अमेरिका, चीन और रूस हनीट्रैप के जरिये जासूसी कराने के लिए बदनाम हैं। बताया तो यहां तक जाता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से संबंधित की जानकारी रूस के पास है। जाहिर है यह काम भी हनीट्रैप के जरिये ही किया गया होगा। दरअसल, एक देश अपने दुश्मन का राज जानने के लिए नए-नए हथकंडे आजमाता रहता है। सच यह भी है कि युद्ध सिर्फ सरहद पर ही नहीं होता, बल्कि दुश्मन के घर में सेंध लगाकर अहम जानकारी जुटा लेना भी युद्ध का ही एक अहम हिस्सा होता है।
ऐसा इसलिए भी किया जाता है क्योंकि एक बार दुश्मन देश से की खुफिया जानकारी हाथ लग जाए तो उसके खिलाफ रणनीति बनाना बेहद आसान हो जाता है। ऐसे में यह काम एक महिला जासूस से बेहतर कौन कर सकता है। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI इस काम में माहिर है और वह खूबसूरत महिलाओं के जरिये यह खेल करती है।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com