शैलजा हत्याकांड में अहम सुराग बना मोबाइल फोन, पति ने कहा- पत्नी पर था शक

34 shailja
नई दिल्ली (Sting Operation)- दिल्ली के कैंट इलाके में दिनदहाड़े एक महिला की गला रेतकर हत्या कर दी जाती है। पुलिस को सूचना मिलती है और फिर शुरू हो जाती है जांच। पहले तो इस पूरी वारदात को क्राइम की एक और घटना मान लिया जाता है और काफी देर तक शव की शिनाख्त ही नहीं हो पाती है। लेकिन बीतते वक्त के साथ जैसे-जैसे इस पूरे घटनाक्रम की परतें खुलती हैं तो पुलिस भी हैरान रह जाती है। मृतक महिला की शिनाख्त सेना में कार्यरत एक मेजर की पत्नी (शैलजा द्विवेदी) के तौर पर होती है। एक के बाद एक हो रहे खुलासों में अब यह बात भी सामने आई है शैलजा मिसेज इंडिया अर्थ 2017 की फाइनलिस्ट रह चुकी थीं।
आखिर क्यों की गई शैलजा की हत्या
शैलजा हत्याकांड में अभी कई खुलासे होने बाकी हैं। पुलिस ने महज 24 घंटों में हत्याकांड में शामिल एक आरोपी मेजर निखिल हांडा को गिरफ्तार कर साबित कर दिया है कि वह इस मामले की तह तक जाएगी और हत्या के पीछे छिपे कारणों को परत दर परत खंगालेगी। भले ही हत्या के पीछे कई कारण हों लेकिन फौरी तौर पर यह मामला लव एंगल से भी जुड़ा नजर आ रहा है। मेजर निखिल हांडा की गिरफ्तारी के बाद हत्या की गुत्थी काफी हद तक सुलझती नजर आ रही है लेकिन यह पता लगना अब भी बाकी है कि आखिर वो कौन सी वजह से जिसके कारण शैलजा की गला रेतकर बेरहमी से हत्या की गई और इस पूरी वारदात को एक्सीडेंट के तौर पर दिखाने की कोशिश की गई।
कॉल डिटेल ने खोला राज
दरअसल शैलजा के कत्ल का मामला सामने आने के बाद पुलिस ने भी पूरी मुस्तैदी से मामले की जांच शुरू कर दी थी। पुलिस हर उस एंगल पर जांच कर रही थी जिससे इस हत्याकांड की गुत्थी को सुलझाया जा सके। इसके संकेत भी पुलिस की तरफ से दे दिए गए थे। पुलिस की तरफ से कहा गया था कि हत्या के पीछे किसी करीबी का हाथ है जिसे जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। जांच के दौरान में शैलजा के मोबाइल की जांच की गई तो अखिरी कॉल निखिल हांडा की मिली और यही वो आधार बना जिसकी वजह से पुलिस हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में सफल रही।
फोन पर होती थी निखिल से बात
पुलिस जांच में मेजर की पत्नी के दूसरे मेजर से प्रेम प्रसंग होने की बात सामने आ रही थी। पुलिस से पूछताछ में मेजर अमित द्विवेदी (शैलजा के पति) ने पत्नी का एक दूसरे मेजर से संबंध होने का शक जताया था। रविवार सुबह पूछताछ में अमित ने बताया कि दिल्ली आने से पहले दीमापुर में उनकी पोस्टिंग थी, यहां पर उनकी पत्नी की नजदीकियां एक दूसरे मेजर से बढ़ गई थीं। दिल्ली आने के बाद भी उनकी पत्नी की उस मेजर से बातचीत होती थी।
हत्याकांड में दो और लोग हैं शामिल
पुलिस की तरफ से यह जानकारी भी दी गई है कि हत्या के बाद मेजर हांडा अपनी कार में दिल्ली-एनसीआर में ही घंटों इधर-उधर चक्कर काटता रहा। इस बीच मेजर हांडा ने अपना मोबाइल भी स्विच ऑफ कर रखा था। पुलिस ने CCTV फुटेज में कार की तो पहचान कर ली थी लेकिन शैलजा के कार में बैठे मेजर हांडा की पहचान नहीं हो सकी थी। पुलिस ने आशंका जताई है कि कत्ल से पहले किसी बात पर कातिल और शैलजा के मनमुटाव भी हुआ था। पुलिस का यह भी कहना है कि दो और लोग शैलजा से टच में थे, उनके फोन स्विच ऑफ हैं। ये दोनों भारतीय सेना से जुड़े नहीं हैं लेकिन परिवार के बेहद करीबी हैं।
सड़क पर मिली थी शैलजा की लाश
जानकारी के मुताबिक शैलजा पिछले कुछ समय से डॉक्टर के पास जा रही थीं। शनिवार को भी वह सुबह 10 बजे आर्मी की गाड़ी से ही फिजीयोथैरेपी कराने आर्मी के बेस अस्पताल गई थीं। शैलजा को अस्पताल पहुंचाने वाले ड्राइवर ने पुलिस को बताया कि उसने शैलजा को सुबह 10:30 बजे हॉस्पिटल ड्रॉप किया था। इसके बाद करीब 1 बजकर 28 मिनट पर दिल्ली छावनी मेट्रो स्टेशन के पास बराड़ चौराहे पर शैलजा की लहूलुहान लाश मिली थी।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com