क्या था 11 लोगों की मौत का ‘राज’, बिसरा रिपोर्ट आई सामने

नई दिल्ली,(स्टिंग ऑपरेशन न्यूज़):  पूरे देश को झकझोर देने वाले बुराड़ी (Burari) में 11 लोगों की सामूहिक मौत कांड मामले में बिसरा रिपोर्ट (Bisra Report) आ गई, जिसमें शरीर में किसी तरह का कोई जहरीला नहीं होने की पुष्टि हुई। इस आधार पर अब यह साफ हो गया है कि सामूहिक हत्याकांड दुर्घटनावश हुई थी। इसमें किसी भी तरह की कोई साजिश नहीं थी। बिसरा रिपोर्ट आने की पुष्टि मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच की टीम की अगुवाई कर रहे डीसीपी ज्वॉय टिर्की ने की।

डीसीपी ज्वॉय टिर्की ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद बिसरा रिपोर्ट में भी यह साफ हो गया कि मौत का कारण कुछ और नहीं है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी कुछ के पेट खाली पाए गए थे, जबकि कुछ के पेट में कुछ खाना था, जो पूरी तरह से पचा नहीं था। लेकिन पुलिस को उस वक्त यह शक था कि कहीं कोई बाहरी शख्स तो इस दौरान नहीं आया था। इस कारण पुलिस ने बिसरा रिपोर्ट के अलावा साइक्लोजिकल अटॉप्सी कराई। ताकि मौत का कारण पूरी तरह से साफ हो पाए। साइक्लोजिकल अटॉप्सी में भी दुर्घटना
सामूहिक मौत कांड के रहस्य की जांच में जुटी क्राइम ब्रांच ने साइक्लोजिकल अटॉप्सी भी कराई थी, जिसमें यह साफ हुआ था कि इनका इरादा खुदकुशी करने का नहीं था, बल्कि परिवार के मुखिया ललित के कहने पर की जा रही क्रिया के दौरान दुर्घटनावश मौत हो गई। दरअसल विशेषज्ञों का यह मानना है कि मुख्य सूत्रधार माने जाने वाला ललित ‘शेयर्ड साइकोटिक डिस्ऑर्डर’ का शिकार था। दरअसल इस तरह की बीमारी से पीड़ित अपने करीबी के संबंध में मन में पहले से स्थापित किए गए भ्रम की स्थिति होती है, जिसके आधार पर अपने करीबी लोगों को प्रभाव में लेता है और रूढ़ीवादी बातों के जरिये भय की स्थिति पैदा कर उनसे अपनी बात मनवाता है। अभी कौन सी रिपोर्ट आनी है बाकी
इस सामूहिक मौत कांड मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट, साइक्लोजॉकिकल अटॉप्सी के बाद अब बिसरा रिपोर्ट भी आ गई है। अब इस मामले में सिर्फ हैंड राइटिंग की जांच के लिए गई डायरी की रिपोर्ट आनी है। इस जांच का मकसद सिर्फ इतना है कि यह पता लगाया जा सके कि आखिरकार यह डायरी ललित द्वारा लिखी गई थी या फिर किसी और ने लिखी थी।

क्या है बुराड़ी सामूहिक हत्याकांड का पूरा मामला
बता दें कि 1 जुलाई को दिल्ली के बुराड़ी इलाके के संत नगर में भाटिया परिवार के 11 सदस्य घर में मृत पाए गए थे। परिवार के 10 सदस्य फंदे पर लटके पाये गये थे, जबकि परिवार की मुखिया 77 वर्षीय नारायण देवी का शव दूसरे कमरे में फर्श पर पड़ा मिला था। मृतकों में उनकी विधवा बेटी प्रतिभा (57), उनके दो पुत्र भवनेश (50) और ललित भाटिया (45) के साथ ही दोनों की पत्नियां सविता (48) और टीना (42) और उनके बच्चे मीनू (23), निधि (25), ध्रुव (15) और शिवम (15) भी शामिल थे। मृतकों में प्रतिभा की बेटी प्रियंका (33) भी शामिल है, जिसकी पिछले महीने ही सगाई हुई थी।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com