देना, विजया बैंक के बैंक ऑफ बड़ौदा में विलय को मंजूरी

नई दिल्ली. देना बैंक, विजया बैंक के बैंक ऑफ बड़ौदा के विलय को कैबिनेट ने बुधवार को मंजूरी दे दी। यह मर्जर 1 अप्रैल से प्रभावी होगा। यह एसबीआई के बाद देश का दूसरा बड़ा बैंक बन जाएगा। देश के बैंकिंग इतिहास में पहली बार तीन बैंकों का विलय होगा। सरकार ने पिछले साल सितंबर में इसकी घोषणा की थी।  केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस विलय का कर्मचारियों की सेवा शर्तों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। कर्मचारियों की छंटनी भी नहीं की जाएगी।नई दिल्ली. देना बैंक, विजया बैंक के बैंक ऑफ बड़ौदा के विलय को कैबिनेट ने बुधवार को मंजूरी दे दी। यह मर्जर 1 अप्रैल से प्रभावी होगा। यह एसबीआई के बाद देश का दूसरा बड़ा बैंक बन जाएगा। देश के बैंकिंग इतिहास में पहली बार तीन बैंकों का विलय होगा। सरकार ने पिछले साल सितंबर में इसकी घोषणा की थी। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इस विलय का कर्मचारियों की सेवा शर्तों पर कोई असर नहीं पड़ेगा। कर्मचारियों की छंटनी भी नहीं की जाएगी।केंद्रीय विधि मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, “मर्जर के बाद कर्मचारियों की सेवा परिस्थितियों में कोई बदलाव नहीं होगा। इसके अलावा किसी तरह की छंटनी भी नहीं की जाएगी।”उन्होंने कहा, “विलय का स्वरूप इस तरह का है कि इसके बाद बीओबी वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धी बैंक बन जाएगा।”फैसले से कुछ दिन पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था, “सरकार ने बजट में घोषणा की थी कि बैंकों का एकीकरण हमारे एजेंडे में है। इससे किसी भी बैंक कर्मचारी की सेवाओं पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ेगा। सभी के लिए सेवा परिस्थितियां बेहतर होंगी।

 

  बैंक ऑफ बड़ौदा देना बैंक विजया बैंक
मार्केट कैप 35.74 हजार करोड़ 3.60 हजार करोड़ 7.79 हजार करोड़
बैंक में डिपॉजिट राशि 5.81 लाख करोड़ 1.03 लाख करोड़ 1.57 लाख करोड़
शाखाएं 5502 1858 2129
कर्मचारी 56 हजार 361 13 हजार 440 15 हजार 874

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com