74 साल में बनी जुड़वां बच्‍चियों की मां, बन सकता है वर्ल्‍ड रिकॉर्ड

74saalmein

अमरावती। पांच दशकों से अधिक समय के लंबे इंतजार के बाद आखिरकार 74 वर्ष की उम्र में मां बनने का सपना पूरा हुआ। आंध्र प्रदेश की 74 वर्षीय महिला ने जुड़वां बच्‍चों को जन्‍म दिया। डॉक्‍टरों का मानना है कि यह मामला वर्ल्‍ड रिकार्ड में दर्ज होने जैसा है।इसके पहले यह रिकॉर्ड 2006 में एक स्‍पेन की महिला के नाम है, जो 66 वर्ष की उम्र में मां बनीं थीं। पूर्वी गोदावरी जिले के द्राक्षरमम में इ मंगायाम्‍मा ने जुड़वां बच्‍चियों को जन्‍म दिया। इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF) के जरिए गुंटूर के एक प्राइवेट अस्‍पताल में यह जादुई घटना हुई। गायनेकोलॉजिस्‍ट सनाक्‍कायला अरुणा ने बताया कि मां और दोनों नवजात ठीक हैं। मंगायम्‍मा की शादी 1962 में इ राजाराव से हुई थी।कुछ दिनों पहले उनके एक पड़ोसी ने 55 साल की उम्र में इसी प्रक्रिया से बच्‍चे को जन्‍म दिया। तब मंगायम्‍मा के मन में भी उम्‍मीद की किरण जगी और उन्‍होंने IVF की प्रक्रिया को अपनाने का फैसला किया। इस क्रम में उन्‍होंने पिछले साल नवंबर में गुंटूर में डॉक्‍टर अरुणा से संपर्क किया जो पहले चंद्रबाबू कैबिनेट में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री रह चुकी हैं।इस प्रक्रिया के जरिए मंगायम्‍मा जनवरी में गर्भवती हुईं। उनकी उम्र को देखते हुए उन्‍हें पूरे 9 माह अस्‍पताल में ही रखा गया। इस दौरान डॉक्‍टरों ने उनकी पूरी देखभाल की। डॉ अरुणा ने बताया, ‘उन्‍हें डायबीटिज या ब्‍लड प्रेशर जैसी कोई बीमारी नहीं है इसलिए वे स्‍वस्‍थ रहीं। चूंकि वे 74 वर्ष की हैं इसलिए हमने सर्जरी कर बच्‍चे की डिलीवरी कराई।’इस तरह के कई उदाहरण भारत समेत दुनिया के अन्‍य देशों में भी हैं। पिछले साल सितंबर माह में राजस्‍थान में अपना अकेलापन दूर करने के लिए 62 साल की महिला मधु ने आइवीएफ के जरिए एक बच्‍चे को जन्‍म दिया। दरअसल, दो साल पहले उनका पूरा परिवार सड़क हादसे का शिकार हो गया जिसके शोक से वो निकल नहीं पा रहीं थीं तभी उनके पति ने आइवीएफ के जरिए बच्‍चे को जन्‍म देने का फैसला किया।वर्ष 2009 में गुंटूर जिले में ऐसा मामला देखने को मिला था। 56 वर्ष की महिला एस कोटम्‍मा ने एस अरुणा के बेटे सेनाक्‍कायाला उमाशंकर से संपर्क किया और गुंटूर में स्‍वस्‍थ बच्‍चे को जन्‍म दिया। वर्ष 2016 में पंजाब की 70 साल की दलजिंदर कौर ने बच्‍चे को जन्म दिया। हरियाणा के एक फर्टिलीटी क्लिनिक में दो साल तक उनका इलाज किया गया था।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com