SEBI ने लिस्टेड कंपनियों को दी राहत, विभिन्न तरह की जानकारी के लिए बढ़ी समयसीमा

sebine

नई दिल्ली। मार्केट रेगुलेटर SEBI ने लिस्टेड कंपनियों के लिए सोमवार को कुछ राहत भरे उपायों की घोषणा की। सेबी ने नॉन-कंवर्टेबल डिबेंचर्स और कॉमर्शियल पेपर्स जैसी डेब्ट सिक्योरिटी को लिस्ट कराने वाली लिस्टेड कंपनियों के लिए कुछ नियमों में ढील दी है। इससे पहले सेबी ने लिस्टेड कंपनियों को चौथी तिमाही और वित्त वर्ष की कमाई का आंकड़ा प्रस्तुत करने से छूट देने का फैसला किया था। सेबी ने एक सर्कुलर जारी कर कहा है कि उसने नॉन-कंवर्टेबल डिबेंचर्स (NCD), नॉन-कंवर्टेबल रिडीमेबल प्रेफरेंस शेयर्स (NCRPS) और कॉमर्शियल पेपर्स (CPs) के साथ म्युनिसिपल डेब्ट सिक्योरिटीज को कुछ नियमों के अनुपालन से छूट देने का फैसला किया है। रेगुलेटर ने NCDs, NCRPs और CPs के छमाही वित्तीय परिणाम प्रस्तुत करने की समयसीमा को 45 दिन बढ़ाते हुए 30 जून, 2020 कर दिया है। इसी तरह वार्षिक आमदनी से जुड़े आंकड़े को प्रस्तुत करने की मियाद को 30 दिन बढ़ाकर 30 जून, 2020 कर दिया गया है। कोरोनावायरस पैंडेमिक को देखते हुए रेगुलेटर ने यह निर्णय किया है। इस महामारी की वजह से कई जिलों में लॉकडाउन की स्थिति है। इससे कंपनियों का कारोबार और प्रतिदिन का कामकाज प्रभावित हो रहा है।वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी ट्वीट करके सेबी के इस कदम की जानकारी दी है। इसके अलावा सेबी ने अपनी डेब्ट सिक्योरिटीज लिस्ट करने की सोच रही कंपनियों को 60 दिन की राहत देते हुए इसके लिए समयसीमा को बढ़ाकर 31 मई कर दिया है।

About Sting Operation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

themekiller.com